What LOGIHQ Authors Have to Say…

RAJESHWARI SRINIVASAN (Retired Banker) Mumbai

मेरी हिंदी कविताओं की पहली किताब “एक प्रयास” जल्द ही LOGIHQ से प्रकाशित होने वाली है। यह मेरी जिंदगी का एक नया मोड़ और एक नया रुख है, जो मुझे यह एहसास देता है कि चाहे तो इन्सान कुछ भी हासिल कर सकता है, बस प्रयास की ज़रुरत है। इस किताब द्वारा मैं अपनी सोच, विचारधारा और भावनाओं को लोगों तक पहुंचा पाऊँगी और इस बात से मुझे अंदरूनी खुशी महसूस हो रही है।

आज मुझमें यह आत्मविश्वास है कि लोग मेरे इस प्रयास को सराहेंगे और मुझे प्रोत्साहित भी करेंगे। हिंदी कविता की किताब छपने से मुझे एक संपूर्ण भारतीय होने का एहसास हो रहा है।

मैं LOGIHQ का इस बात के लिए आभार मानती हूँ। ख़ासकर मनीषा मैडम के दृढ़ निश्चय और प्रोत्साहन के लिए शुक्रिया अदा करती हूँ।

बैंकर से कवयित्री ….., ज़िम्मेदारी और शौक़…… । सफ़र आसान नहीं पर उम्मीद जारी है….और आगे भी कई सपने बाकी हैं…..बस जिंदगी यूँही चलती रहे…… राजेश्वरी श्रीनिवासन 22 May 2014

(Rajeshwari Srinivasan from Mumbai has been a Banker for 20 years. She was with IDBI (Industrial Development Bank of India) and took VRS sometime back.“Ek Prayaas” is her first Hindi book.)